क्रिकेट सट्टेबाजी वास्तव मेें कैसे काम करती है?

क्रिकेट बैटिंग करना लोग पसंद करते हैं क्योंकि यह एक पॉपुलर स्पोर्टस खेल में से एक हैं। क्रिकेट सट्टेबाजी एक डराने वाली संभावना हो सकती है, खासकर उनके लिए जो सट्टेबाजी की दुनिया में नए सट्टेबाज हैं। वेबसाइटों और शब्दावली के चक्रव्यूह में खो जाना एक नॉर्मल बात है, लेकिन वास्तव में, क्रिकेट पर दांव लगाना काफी सरल और आसान है। क्रिकेट सट्टेबाजी वास्तव में कैसे काम करती है? आइए समझते हैं।

जैसा की आपको पता होगा बेटिंग का मतलब जुआ ही होता है और क्रिकेट का मतलब की क्रिकेट खेल के ऊपर खेला जाने वाला जुआ ही क्रिकेट बेटिंग कहलाता है। ऑनलाइन क्रिकेट बेटिंग यानि क्रिकेट मैच में इंटरनेट के जरिये पैसा लगाना ही ऑनलाइन क्रिकेट बेटिंग होता है, इससे आजकल लोग करते हैं।

 क्रिकेट सट्टेबाजी  वास्तव में कैसे काम करती हैं।

अगर आप बैटिंग करना चाहते है तो बैटिंग एजेंट को एडवांस देकर अकाउंट खुलवाना पड़ता है। इस अकाउंट की एक लिमिट होती है।  इनके अपने कुछ कोड़ वर्ड होते है,  सट्‌टा लगाने वाले व्यक्ति को लाइन बोला जाता है। यही पंटर (एजेंट) के जरिए बुकी से संपर्क कराते है। मैच की पहली गेंद से लेकर आखिरी तक टीम के जीत के भाव ऊपर एक लाख को एक पैसा, 50 हजार को अठन्नी, 25 हजार को चवन्नी कहा जाता हैं। वही क्रिकेट बैटिंग मे अलग अलग प्रकार से बेटिंग की जाती हैं, रन हो , बल्लेबाज हो, मैच हो आदि पर सट्टेबाज़ी की जाती हैं। जो इस प्रकार हैं। 

मैच बैटिंग

यह क्रिकेट बेट का सबसे आम प्रकार है। यह एक बहुत ही सीधा दांव है क्योंकि इसके लिए केवल यह आवश्यक है कि आप तीन परिणामों में से एक को चुनें। ये तीन परिणाम हैं – मैच ड्रॉ में समाप्त होगा (एक टेस्ट में), घरेलू टीम जीतेगी, या दूर टीम जीतेगी। इसकी सादगी के लिए धन्यवाद, यह क्रिकेट सट्टेबाजी की दुनिया में सबसे लोकप्रिय दांव है।

टाई मैच 

यह एक और सीधा क्रिकेट दांव है। इस प्रकार के दांव पर दांव लगाने के लिए आपको केवल हां या ना में शर्त लगानी है कि मैच टाई में समाप्त होगा या नहीं। यदि आपका चयन सही है तो आप दांव जीत जाते हैं।

पूरा  मैच

पूरे दिन के मैचों के लिए, आप इस पर दांव लगा सकते हैं कि आपको लगता है कि मैच उस दिन खत्म होगा या नहीं। यह भी हां या ना में शर्त है कि मैच निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार समाप्त होगा या नहीं। यदि आप यह भी मानते हैं कि कुछ बाहरी कारक, जैसे कि मौसम, खेल को प्रभावित कर सकते हैं और इसे दूसरे दिन के लिए धकेल सकते हैं, तो आप शर्त लगा सकते हैं कि मैच उस दिन से आगे बढ़ जाएगा।

शीर्ष गेंदबाज

इस प्रकार का दांव विशिष्ट खिलाड़ियों पर दांव लगाता है। आप बस उस खिलाड़ी को चुनते हैं जो आपको लगता है कि एक श्रृंखला या मैच के दौरान सबसे ज्यादा विकेट लेगा। आप खिताब जीतने वाली किसी भी टीम से खिलाड़ी चुन सकते हैं। यदि आपका चयन सही है, तो आप स्पोर्ट्सबुक से अपनी पुरस्कार राशि अर्जित करेंगे।

पारी रन

इस दांव के लिए आवश्यक है कि आप मैच की पहली पारी के दौरान बनाए जाने वाले रनों की संख्या का सही अनुमान लगाएं। अधिकांश सट्टेबाज इस प्रकार के दांव को एक अंडर/ओवर दांव के रूप में पेश करते हैं जहां सट्टेबाज कई रन पोस्ट करता है और आपको बस इतना करना है कि अगर आपको लगता है कि बनाए गए रनों की वास्तविक राशि स्पोर्ट्सबुक में प्रदर्शित संख्या के नीचे या उससे अधिक होगी।

शीर्ष बल्लेबाज की टीम

यह विकल्प आपको उस टीम पर दांव लगाने की अनुमति देता है जिससे आपको लगता है कि शीर्ष बल्लेबाज निकलेगा। शीर्ष बल्लेबाज के रूप में उभरने वाले विशिष्ट खिलाड़ी पर दांव लगाने की तुलना में यह एक सरल दांव है। इस प्रकार के दांव पर दांव लगाने के लिए आपके पास केवल दो विकल्प हैं, जिसका अर्थ है कि जीतने की संभावना शीर्ष बल्लेबाज पर दांव लगाने की तुलना में अधिक है।

क्रिकेट सट्टा साइट पर

भारतीय ऑनलाइन बैटिंग को आकर्षक और पसंदीदा  मानते हैं। आज के समय में ऑनलाइन क्रिकेट बेैटिंग साइट पर सट्टेबाजी करना काफी लोकप्रिय और आसान हो गया है। नए समय में  अधिक से अधिक भारतीय ऑनलाइन खेल और अन्य गतिविधियों पर अपना समय लगा रहे हैं। इतना ही नहीं लोग इसमें समय से अपना टाइम देते है और काफी रुपए कमाते है।

अगर आप भी ऑनलाइन बैटिंग करने के बारे में विचार कर रहे हैं तो तो अपने राज्य में ऑनलाइन बेटिंग कानूनों को समझें। भारत के हर राज्य में ऑनलाइन सट्टेबाजी से संबंधित अलग-अलग कानून बनाए गए  हैं। आध्र प्रदेश, तेलंगाना और तमिलनाडु में सख्त नियम हैं। बता दें कि यहां ऑनलाइन सट्टेबाजी की अनुमति नहीं देते हैं। इन राज्यों में अपराधियों को भारी सजा भी दी जाती है। दूसरी ओर सिक्किम और गोआ जैसे राज्य बहुत नॉर्मल मना जाता है।

अगर आप भी ऑनलाइन सट्टेबाजी करना चाहते है तो इन स्टेप्स को फॉलो करके आप घर बैठे क्रिकेट पर सट्टेबाजी कर सकते हैं।

एक अच्छी स्पोर्ट्सबुक चुनें

इंटरनेट पर एक साधारण खोज आपको बड़ी संख्या में सट्टेबाजी की वेबसाइटें दिखाएगी, और यह काफी भ्रमित करने वाली हो सकती है कि किस वेबसाइट पर दांव लगाया जाए। हमेशा जांचें कि सट्टेबाजी साइट लाइसेंस प्राप्त है या नहीं। कुछ सबसे प्रसिद्ध नियामकों में एमजीए और यूकेजीसी शामिल हैं। लाइसेंस प्राप्त वेबसाइटों पर सट्टेबाजी करना  काफी सुरक्षित होता  हैं और आपको अपने पैसे की सुरक्षा के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। बेस्ट भारतीय क्रिकेट बैटिंग साइट्स का ही चुनाव करना चाहिए।

खाता बनाना

एक बार जब आप बेट लगाने के लिए वेबसाइट का चयन कर लेते हैं, तो आपको नाम, जन्म तिथि, पता और संपर्क विवरण जैसे ई-मेल आईडी और फोन नंबर सहित विवरण प्रस्तुत करके साइट के साथ एक खाता पंजीकृत करना होगा।

अपने सट्टेबाजी खाते में पैसा जमा करना

अकाउंट बनाने के बाद आपको उसमें पैसे जमा करने होंगे, जो आपके दांव लगाने के काम आएंगे। अधिकांश वेबसाइटों के पास पैसे जमा करने के कई विकल्प होते हैं। कुछ सबसे लोकप्रिय तरीकों में बैंक हस्तांतरण, क्रेडिट/डेबिट कार्ड, ई-वॉलेट और प्रीपेड कार्ड शामिल हैं।

मैच का चयन

जबकि परंपरागत रूप से क्रिकेट पर सट्टेबाजी सिर्फ एक मैच के परिणाम तक ही सीमित थी, ऑनलाइन सट्टेबाजी साइटों के पास चुनने के लिए बड़ी संख्या में बाजार हैं। आप या तो किसी मैच के शुरू होने से पहले उस पर बेट लगा सकते हैं, या आप चल रहे मैचों पर भी बेट लगा सकते हैं। कुछ सबसे लोकप्रिय बाजारों में ‘पावर प्ले के दौरान बनाए गए रन’, ‘अगले ओवर में बनाए गए रन’ और ‘अगले विकेट को आउट करने का तरीका’ शामिल हैं।

अपना दांव लगाएं

एक बार जब आप एक सट्टेबाजी बाजार का चयन कर लेते हैं, तो वह राशि दर्ज करें जिसे आप दांव पर लगाना चाहते हैं, सभी विवरणों की पुष्टि करें और अपना दांव लगाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.